Class 8th third language Hindi Test book Solution

जीवनधात्री-वर्षा – 8 वीं कक्षा की तीसरी भाषा हिंदी पाठ्यपुस्तक प्रश्नावली


 
 जीवनधात्री-वर्षा

अभ्यास

I. एक वाक्य में उत्तर लिखिए :

1. जीवन के लिए क्या अनिवार्य है?
उत्तर: जीवन के लिए पानी अनिवार्य है।
2. पानी के स्रोत कौन-कौन-से है?
उत्तर: पानी के स्त्रोत नदी, नाला, सागर है।
3. मानसून की हवाएँ क्या लाती हैं?
उत्तर: मानसून की हवाएँ वर्षा लाती हैं।
4. वर्षा नहीं होती तो क्या होता है?
उत्तर: वर्षा नहीं होती तो अकाल पड़ता हैं।
5. शुद्ध जल का स्रोत क्या है?
उत्तर: शुद्ध जल का स्रोत वर्षा है।
6. जीवन के लिए क्या अनिवार्य है?
उत्तर: जीवन के लिए पानी अनिवार्य है।
7. बाष्प कैसे बनता है?
उत्तर: सूरज की गर्मी से नदी, तालाब, समुद्र का पानी बाष्प बन जाता है।

II. दो-तीन वाक्यों में उत्तर लिखिए :

1. बादल कैसे बनते हैं?
उत्तर: समुद्र, झील, तालाब और नदियों का पानी सूरज की गर्मी से बाष्प बनकर ऊपर उठता हैं। इस बाष्प से बादल बनते हैं।
2. हवा में रहनेवाले बाष्प से पानी की बूंदें कैसे बनती हैं?
उत्तर: बादल जब ठंडी हवाओं से टकराते हैं तो इनमें रहने वाले बाष्प के कण पानी की बूंदें बन जाते हैं।
3. अकाल में क्या-क्या हानियाँ होती हैं?
उत्तर: अकाल से सूखा पड़ता है। खेत सूख जाते हैं। गाय, बैल आदि मरने लगते हैं।
4. वर्षा कब होती हैं?
उत्तर: बूंदोंवाले बादल भारी होकर धरती की आकर्षण-शक्ति से खींचे जाते हैं। तब वर्षा के रूप में बरस जाते हैं।
5. वर्षा नहीं होती तो क्या होता है?
उत्तर: वर्षा नहीं होती तो अकाल पड़ता हैं। खेत सूख जाते हैं और गाय, बैल आदि मरने लगते हैं।
6. बाढ़ किसे कहते हैं?
उत्तर: जब बहुत ज्यादा वर्षा होती है तो नदियाँ अपने किनारों को तोड़कर बहने लगती हैं। इसको बाढ़ कहते हैं।
7. वर्षा ऋतु की प्रतीक्षा क्यों की जाती है?
उत्तर: बारह महीने वर्षा नहीं होती। सर्दी-गर्मी की ऋतुओं में वर्षा कम होती है। पानी के लिए वर्षा ऋतु की प्रतीक्षा की जाती है।

8. वर्षा की अधिकता से क्या होता है?
उत्तर: वर्षा की अधिकता से फसलें नष्ट होती हैं। नदी में बाढ़ आती है। नदी-किनारे रहनेवाले लोगों को मुसीबतों का सामना करना पड़ता है।
9. बाढ़ और अकाल में क्या अंतर है?
उत्तर: बाढ़ में नदियाँ किनारे को तोड़कर बहती है। अकाल में नदियों का पानी कम होता है। कभी-कभी ये नदियाँ सूख भी जाती है। बाढ़ में फसलें पानी से घिर जाती है। अकाल में पानी के अभाव के कारण सूख जाते है।
10. पानी के बिना जीवन नहीं हैं, क्यों?
उत्तर: हर एक को पानी चाहिए। पीने के लिए, नहाने के लिए, कपड़े धोने के लिए, सिंचाई के लिए, फसलें उगाने के लिए, सबके लिए पानी चाहिए। पानी जीवन का अविभाज्य अंग है। पानी के अभाव में लोग तरस-तरस कर मर जाते हैं। इसलिए पानी जन-जीवन के लिए अत्यंत उपयोगी है।
III. शब्द और अर्थ का मिलान कीजिए :

1) पेय – अ) इंतज़ार
2) भारी – आ) ज़मीन
3) प्रतीक्षा – इ) वजनदार
4) खेत – ई) पीने की चीज़
उत्तरः
1. ई;
2. इ;
3. अ;
4. आ

IV. नमूने के अनुसार शब्द बनाइए :

1. गति – दुर्गति
2. गंध – _________
3. गुण – _________
4. भाग्य – _________
उत्तरः
1. गति – दुर्गति
2. गंध – दुर्गंध
3. गुण – दुर्गुण
4. भाग्य – दुर्भाग्य
V. नमूने के अनुसार विलोम शब्दों को जोड़िए :
question photo
उत्तरः
1. इ;
2. अ;
3. उ;
4. आ;
5. ई।
VI. नमूने के अनुसार एक साथ आनेवाले शब्दों को लिखिए :
नमूना : नदी – नाला
1. खाना – __________
2. पशु – ___________
3. पेड़ – ___________
4. रोना – _____________
उत्तरः
1. खाना – पीना
2. पशु – पक्षी
3. पेड़ – पौधे
4. रोना – हँसना
VII. नमूने के अनुसार प्रेरणार्थक क्रिया रूप लिखिए :
नमूनाः खींचना → खिंचाना
1. सीखना → ________
2. पीटना → _______
3. सीना → ________
4. पीना → ______
उत्तरः
1. सीखना → सिखाना
2. पीटना → पिटवाना
3. सीना → सिलाना
4. पीना → पिलाना
VIII. नमूने के अनुसार अन्य वचन रूप लिखिए :
नमूनाः पहाड़ – पहाड़
1. पेड़ – ___________
2. शेर – ___________
3. वचन – ___________
बच्चा – बच्चे
1. बेटा – ___________
2. बछड़ा – ___________
3. लड़का – ___________
उत्तरः
1. पेड़ – पेड़
2. शेर – शेर
3. वचन – वचन
1. बेटा – बेटे
2. बछड़ा – बछड़े
3. लड़का – लड़के
IX. वाक्यों में प्रयोग कीजिए :
1. ऊपर उठना : पानी सूरज की गर्मी से बाष्प बनकर ऊपर उठता है।
2. बादल बनना : बाष्प से बादल बनते हैं।
3. टकराना : बादल ठंडी हवा से टकराते हैं।
4. खींचना : कुएँ से पानी खींचना पड़ता है।
5. रोचक : बहुत ही रोचक किस्सा था।
6. प्रतीक्षा : मैं उसकी सुबह से प्रतीक्षा कर रहा हूँ।
X. सूची बनाइए :
वर्षा पानी का मूल है। वर्षा अधिक होने पर भी हानियाँ होती हैं और वर्षा न होने पर भी हानियाँ होती हैं। इन हानियों की सूची बनाइए :

अधिक वर्षा से होनेवाली हानियाँ
________________
_________________
________________
वर्षा न होने से होनेवाली हानियाँ
________________
________________
________________
उत्तरः अधिक वर्षा से होनेवाली हानियाँ
फसल की बर्बादी।
जन-धन की हानि।
जमीन का कटाव।
महामारी का फैलना।
वर्षा न होने से होनेवाली हानियाँ
सूखा पड़ना।
पशुओं का चारे के अभाव में मरना।
पीने के पानी का संकट।
बेरोजगारी/भुखमरी का बढ़ना।
XI. वर्गों में से पालतू जानवर और जंगली जानवारों के नाम ढूँढकर नीचे लिखिए :
photo
उत्तरः
पालतू जानवर – बिल्ली, घोड़ा, बकरी, गाय, कुत्ता, बैल
जंगली जानवर – शेर, भेड़िया, लोमड़ी, हाथी, भालू, बाघ।
XII. उत्तर लिखिए :

1. अधिक वर्षा के कारण पानी नदियों के किनारों को तोड़कर बाहर बहने लगता है, तो उसे बाढ़ कहते हैं; पर वर्षा न होने पर खेत सूख जाते हैं, तो उसे क्या कहते हैं?
उत्तर: अकाल।
2. शुद्ध पानी पीने से आदमी स्वस्थ रहता है। गंदा पानी पीने से आदमी को कौन-सी बीमारियाँ होती हैं?
उत्तर: डायरिया, दस्त, पेचिश, हैजा
3. नदी के पानी का उपयोग किस-किस के लिए होता है?
उत्तर: पीने के पानी के लिए, बिजली निर्माण, सिंचाई के लिए।
 ‘प्रेरणार्थक क्रिया’
रीना नौकरानी से कमरा साफ करवाती है।
अध्यापक छात्र से पाठ पढ़वाते हैं।
जिस क्रिया को कर्ता स्वयं न करके दूसरे को करने की प्रेरणा देता है, उसे ‘प्रेरणार्थक क्रिया’ कहते हैं।
प्रेरणार्थक क्रिया के दो रूप हैं।
1) प्रथम प्रेरणार्थक क्रिया
जैसे : माँ परिवार के लिए भोजन बनाती है।
रानी बेटे को खाना खिलाती है।
अध्यापक कविता लिखते है।
2) द्वितीय प्रेरणार्थक क्रिया
जैसे : माँ पुत्री से भोजन बनवाती है।
रानी राधा से बेटे को खिलवाती है।
अध्यापक छात्र से कविता लिखवाते हैं।
I. निम्न क्रिया शब्दों के प्रेरणार्थक रूप लिखिए :
उदाः करना कराना करवाना
1. रोना
2. चलना
3. जगना
4. देना
5. पढ़ना
उत्तरः
1. रोना रूलाना रूलवाना
2. चलना चलाना चलवाना
3. जगना जगाना जगवाना
4. देना दिलाना दिलवाना
5. पढ़ना पढ़ाना पढ़वाना
II. निम्ब वाक्यों में प्रथम प्रेरणार्थक रूप का प्रयोग कीजिए :
1. हमें राजू को शहर में __________ है। (घूम)
2. बच्चों को खेल ___________ है। (सीख)
3. रेणु को आज रात जल्दी __________ है। (सोना)
4. त्योहार के लिए नए कपड़े _____________ है। (देना)
5. बूढ़ों को ___________ है। (खाना)
उत्तरः
1. घुमाना;
2. सिखाना;
3. सुलाना;
4. दिलाना;
5. खिलाना।
III. निम्नलिखित द्वितीय प्रेरणार्थक क्रियाओं से उचित वाक्य बनाइए :

1. बनवाना
2. खिंचवाना
3. करवाना
4. लगवाना
5. लिखवाना
उत्तरः
1. बनवाना – मुझे मिस्त्री से मकान बनवाना है।
2. खिंचवाना – फोटोग्राफर से फोटो खिंचवाना है।
3. करवाना – कामवाली से सफाई करवाना है।
4. लगवाना – माली से पौधे लगवाना है।
5. लिखवाना – आज छात्रों से कक्षा में पत्र लिखवाना है।
खाली जगह भरिए :

1. पानी के अनेक स्रोत का कारण ___________ है।
2. भारत में _____________ हवाएँ वर्षा लाती हैं।
3. ____________ ऋतुओं में वर्षा आमतौर पर कम होती है।
4. वर्षा नहीं होती तो ____________ पड़ता है।
5. बहुत ज्यादा वर्षा होने से ___________ आती हैं।
6. वर्षा ___________ के लिए वरदान है।
7. जहाँ वर्षा नहीं, वहाँ ____________ नहीं।
उत्तरः
1. वर्षा;
2. मानसूनी;
3. सर्दी-गर्मी;
4. अकाल;
5. बाढ़;
6. किसानों;
7. जीवन।
जीवनधात्री-वर्षा 
जीवन धात्री – वर्षा पाठ का सारांश :
‘जल ही जीवन है।’ यह वाक्य जल के महत्व को दर्शाता है। यह जल हमें नदी, नाला, सागर से गर्मी में उठने वाली बाष्प से बने बादलों से वर्षा के रूप में मिलता है। जब यह बादल ठंडी हवा से टकराते हैं तो यह बादल बूंदों के रूप में टपकने लगते हैं। भारत में मानसूनी वर्षा ही होती हैं। जिसे वर्षा ऋतु कहते हैं।
 
अगर वर्षा नहीं होती तो अकाल पड़ता है। खेत सूख जाते हैं। गाय, बैल मरने लगते हैं। वर्षा अधिक होती हैं तो बाढ़ आती है। धन-हानि के साथ मानव-हानि भी होती है। मतलब यह है कि बाढ़ में बहकर मानव मर जाता है।
 
वर्षा किसानों के लिए महत्वपूर्ण है। पानी सभी को आवश्यक है। इसके बिना कोई काम किया नहीं जा सकता। नहाने के लिए, साफ-सफाई के लिए, पीने के लिए, सिंचाई के लिए पानी आवश्यक है।
 
ಜೀವ ಶಕ್ತಿ ಮಳೆ ಕನ್ನಡದಲ್ಲಿ ಸಾರಾಂಶ:

ಜೀವನದ ತಾಯಿ, ಮಳೆ (ಮಕ್ಕಳಿಗೆ ನೀರಿನಿಂದ ಆಗುವ ಲಾಭ ಹಾಗೂ ಉಪಯೋಗವನ್ನು ಅರಿಯಲು ಸಹಾಯಕ).

ಮನುಷ್ಯ ಬದುಕಲು ನೀರು ಬೇಕೇ ಬೇಕು. ನದಿ, ಸಮುದ್ರ, ಕಾಲುವೆ ಇತ್ಯಾದಿಗಳು ನೀರಿನ ಮೂಲವಾಗಿದೆ. ಇವುಗಳಿಗೆ ಮೂಲ ಮಳೆ, ಜರಿ, ನದಿ, ಹಾಗೂ ಸಮುದ್ರಕಳಿರುವ ಏರಿ ಶೂರನ ಕಿರಣಗಳಿಗೆ ಆವಿಯಾಗಿ ಮೇಲೇರುತ್ತವೆ. ಹೀಗೆ ಸಾವಿರಾದ ನೀರು ಮೋಡವಾಗಿ ಪರಿವರ್ತಿಸತವಾಗುತ್ತದೆ. ಈಗಿರುವ ಮೋಡಗಳಿಗೆ ತಂಪಾದ ಅವಯ ಸಂಪರ್ಕವಾಗಿ ನೀರಿನ ಹನಿಯಾಗಿ ಪರಿವರ್ತಿತವಾಗುತ್ತದೆ. ಈ ರೀತಿಯಾದ ನೀರಿನ ಹನಿಗಳಿಂದ ಭಾರವಾದ ಮೋಡಗಳು ಭೂಮಿಯ ಆಕರ್ಷಣ ಶಕ್ತಿಗೆ ಒಳಗಾದಾಗ ಮಳೆಯ ರೂಪದಲ್ಲಿ ಭೂಮಿಗೆ ಬೀಳುತ್ತದೆ. ಹೀಗೆ ಭೂಮಿಯ ಮೇಲಿರುವ ನೀರು ಮೋಡವಾಗಿ ಮತ್ತೆ ಮಳೆಯ ರೂಪದಲ್ಲಿ ಭೂಮಿಯ ಮೇಲೆ ಸುರಿಯುವ ಮಳೆ ಬಹಳ ರೋಚಕವಾದುದ್ದು.

ಯುರೋಪ್ ಖಂಡದಲ್ಲಿ ಏಷಿಯಾ ಖಂಡದಲ್ಲಿ ಹನ್ನೆರಡು ತಿಂಗಳು ಮಳೆ ಬರುವುದಿಲ್ಲ. ಮುಂಗಾರು ಮಾರುತಗಳು ಮಳೆಗಾಲವನ್ನು ತರುತ್ತವೆ, ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಬೇಸಿಗೆ ಹಾಗು ಚಳಿಗಾಲದಲ್ಲಿ ಮಳೆ ಸುರಿಯುವುದು ಕಡಿಮೆ. ಆದದರಿಂದಲೇ ಜನರು ಮಳೆಗಾಲದ ನಿರೀಕ್ಷೆಯಲ್ಲಿರುತ್ತಾರೆ. ಮಳೆ ಕಡಿಮೆಯಾದರೆ ಬರಗಾಲವು ಆರಂಭವಾಗುತ್ತದೆ. ಇದರಿಂದ ಹೊಲಗದ್ದೆಗಳು ಒಣಗಿ ಬಾಯೂರಿ ಬಾಯಾರೆಯಾಗುತ್ತದೆ. ಅಸು-ಕಾರಗಳು ಜಾನುವಾರುಗಳು ಹೆಚ್ಚಾಗಿ ನದಿಗಳು ತಮ್ಮ ಬೇರೆ ಇರುತ್ತದೆ. ಇದನ್ನು ಪ್ರವಾಹ ಎಂದು ಕರೆಯುತ್ತಾರೆ.

ಮಳೆಯ ನೀರು ಹಚ್ಚ ಹಾಗೂ ಶುದ್ಧವಾದ ನೀರಿನ ಮೂಲವೆಂದು ಕರೆಯಲ್ಪಹುದು ಭಾರತದ ಚಿರಪುಂಜಿಯಲ್ಲಿ ಅತಿ ಹೆಚ್ಚು ಮಳೆ ಆಗುತ್ತದೆ. ಕೃಷಿಕರಿಗೆ ಮಳೆಯು ವರದಾನ ವಿನ್ನಿಸಿದೆ ಎಲ್ಲರೂ ಕುಡಿಯುವ ನೀರಿಗೆ ಮಳೆಯ ಮೂಲ ಸಾಧನ. ಈ ಜಗತ್ತಿನಲ್ಲಿರುವ ಪ್ರತಿಯೊಬ್ಬ ಜೀವಿಗೆ ಬದುಕಲು ನೀರು ಅತ್ಯಂತ ಅವಶ್ಯಕತೆ. ಸ್ವಚ್ಛಗೊಳಿಸಲು, ಸ್ನಾನ, ಪಾವಾದಿಗಳಿಗೆ, ಬಟ್ಟೆ ಒಗೆಯಲು, ಗಿಡಮರಗಳಿಗೆ ನೀರು ಇಳಿಸಲು, ಹೀಗೆ ಎಲ್ಲಾದಕ್ಕೂ ನೀರೇ ಮೂಲ ಸಾಧನವಾಗಿದೆ. ನೀರಿಲ್ಲದೆ ಯಾವುದೇ ಕೆಲಸ ನಡೆಯಲಾರದು. ಹೀಗೆ ಜನ ಜೀವನಕ್ಕೆ ಮಳೆಯೂ ಅತ್ಯಂತ ಮುಖ್ಯ ಸಾಧನವಾಗಿದೆ. ಎಲ್ಲಿ ಮಳೆ ಇಲ್ಲವೋ ಅಲ್ಲಿ ಜನರ ಜೀವನ ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button